Home » Articles

Articles

जिनधर्म के संस्कारो को मत छोड़ना

हंस और परमहंस नामक दो भाई थे। अकलंक जिसे एक ही बार में याद हो जाता और हंस को दुबारा कहने से याद हो जाता है। ऐसे प्रखर बुद्धि के धनी दोनों बालको में जिनधर्म के संस्कार थे। बचपन में ही ब्रह्मचर्य व्रत ले लिया था। इस बात से अनजान पिता ने उनके विवाह की तैयारी करने लगे परन्तु अपने …

Read More »

गधे की कहानी

किसी समय एक जंगल में गधे ही गधे रहते थे। पूरी आजादी से रहते, भरपेट खाते-पीते और मौज करते थे। एक लोमड़ी को मजाक सूझा। उसने मुँह लटकाकर गधों से कहा- मैं अपने कानों से सुनकर और आँखों देखकर आई हूँ। मछलियों ने एक सेना बना ली है और वे अब तुम्हारे ऊपर चढ़ाई करने ही वाली हैं। उनके सामने …

Read More »

चरित्र

पिता को अनाथश्रम मे छोड़कर पुत्र बाहर निकला ही था कि पत्नी का फोन आ गया, यह जानने के लिए कि पर्व त्योहार मे छुट्टी वगेरह का नियम तो नही हैं न? पुत्र वापस अनाथाश्रम पहुँचकर देखता हैं उसके पिता बड़े प्रेम से वृद्धाश्रम के मेनेजर से बात कर रहे हैं। पुत्र को शंका होने लगी की शिकायत हो रही …

Read More »

Communication between God Statue and Marble

एक ट्रक में मारबल का सामान जा रहा था, उसमे टाईल्स भी थी और भगवान की मूर्ती भी। रास्ते में टाईल्स ने मूर्ती से पूछा भाई ऊपर वाले ने हमारे साथ ऐसा भेद-भाव क्यों किया है? मूर्ती ने पूछा, कैसा भेद भाव? टाईल्स ने कहा, तुम भी पथ्थर मै भी पथतर, तुम भी उसी खान से निकले, मै भी, तुम्हे …

Read More »

Jain Life Style and Its Scientific Development

Jain Life Style and Its Scientific Development – An article by Dr ShudhatamPrakash Jain   Want to know what what is the scientific logic for each and every activities which are done by Jain People. Here is an article which can brief you about, Really a nice article. Have a look !! JainLifeStyleandItsScientificDevelopment

Read More »

A Jain perspective on Food, Fasting and Liberation

Have you ever wondered why there is so much restriction in Jainism related to food? Why can’t we eat that, why can’t we do that? If yes, then here is an article for you : Non-violence as a core philosophy and a vegetarian diet as one of its outcomes are the two most well-known aspects of the Jain community. Practicing …

Read More »

Jainism Deep rooted in TamilNadu (Thirunageswaram)

Jainism has deep rooted in Tamilnadu

Jainism has deep rooted in Tamil land’s culture, literature, customs and art-architecture too; the fact is well attested by many scholars on literary, inscriptional and paleographical background. Jainism was once the most popular religion in initial centuries of Christ era to 6-7 century AD. The fact is corroborated time to time by exploration of ancient sculptures, temples, Inscriptions, cavern with …

Read More »

How to avoid dental problems ?

    “गुप्ति गुरु का यह  सन्देश स्वस्थ रहे अब अपना देश ”   मुँह शरीर का आईना है। मुख संबंधी स्वास्थ्य सही अर्थों में समग्र स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है और विश्व स्तर पर यह एक बड़ी चुनौती है।  ज्यादातर लोग मुख संबंधी स्वास्थ्य के साथ.साथ आम सेहत पर इससे पड़ने वाले असर से अनभिज्ञ हैं। दंत रोग व निदानों पर किये गये शोध व अनुसंधानों से पता चला …

Read More »

Brahmacharya

Brahmcharya,celibacy,chastisity,Jainism,Jain Articles,Principles,Knowledge,Learning

The ills of life are cured, if you root out lust from your heart. Brahmacharya is a word with a very wide scope. It means maintaining sexual purity by assuming the strict aspect of celibacy. Brahma means soul, which is chaste, enlightened, eternal and blissful. To become fully engrossed in soul is Brahmacharya-celibacy The opposite of Brahma is Abrahma- sexuality. …

Read More »

Ahimsa and Animal rights

Animals,Ahimsa,Jainism,Jain Articles,Principles,Knowledge,Learning

The practice of Ahimsa is the true essence of Jainism. Jain doctrine teaches that the universe is filled with an abundance of life and that each being without exception is of importance and that any injury even accidental caused to any being effects the order of the entire world. Jains should be non-violent toward all other living beings, including their …

Read More »