Home » Guru Ji » vishudhsagar » Jeevan Parichay
Acharya_vishudh_sagar_ji maharaj, jain monk, jain digamber muni,life of a jain monk

Jeevan Parichay

गुरु जी परिचय

आचार्य श्री 108  विशुद्ध सागर जी मुनिराज का सामान्य परिचय

जन्म                                                     : १८ दिसम्बर १९७१

जन्म नाम                                             : राजेन्द्रकुमारजैन

जन्मस्थान                                            : भिडं (म.प्र.)

माता का नाम                                         : श्री मती रत्तीबाई जैन

पिता का नाम                                         : राम नारायण जी जैन (मुनि श्री विश्वजीत सागर जी)

क्षुल्लक दीक्षा                                         : ११ अक्टुबर १९८९ (भिन्ड)

ऐलक दीक्षा तिथि                                   : १९ जून १९९१ (पन्ना)

ऐलक दीक्षा गुरू                                       : प.पू.गणाचार्य श्री विराग सागर जी महाराज

मुनि दीक्षा                                               : २१ नवंबर १९९१ (श्रेयासं गिरि)

दीक्षा नाम                                               : पूज्य मुनि श्री १०८ विशुद्ध सागर जी महाराज

मुनि दीक्षा गुरू                                        : प.पू.गणाचार्य श्री विराग सागर जी महाराज

आचार्य पद प्रदाता                                   : परम पूज्य मुनि श्री १०८ विशुद्ध सागर जी महाराज को परम पूज्य आचार्य श्री १०८ विराग सागर जी के कर कमलो से ३१ मार्च २००७ को मुनि दीक्षा के १५ वर्ष ६ माह बाद ३५ वर्ष की आयु में दिनांक ३१ मार्च २००७ को आचार्य पद पर प्रतिष्ठित किया गया।

चैतन्य कृतियाँ                

  1. मुनिश्री १०८ मनोज्ञसागर जी
  2. मुनिश्री १०८ प्रमेयसागर जी
  3. मुनिश्री १०८ प्रशमसागर जी
  4. मुनिश्री १०८ प्रत्यक्षसागर जी(समाधी )
  5. मुनिश्री १०८ सुप्रभसागर जी
  6. मुनिश्री १०८ सुव्रतसागर जी
  7. मुनिश्री १०८ सुयशसागर जी
  8. मुनिश्री १०८ अनुत्तर सागर जी
  9. मुनिश्री १०८ अनुपम सागर जी
  10. मुनिश्री १०८ अरिजित सागर जी
  11. मुनिश्री १०८ आदित्य सागर जी
  12. मुनिश्री १०८ अप्रमित सागर जी
  13. मुनिश्री १०८ आस्तिक्य सागर जी
  14. मुनिश्री १०८ आराध्य सागर जी
  15. मुनिश्री १०८ प्रणेय सागर जी
  16. मुनिश्री १०८ प्रणीत सागर जी
  17. मुनिश्री १०८ प्रणव सागर जी
  18. मुनिश्री १०८ प्रणत सागर जी
  19. मुनिश्री १०८ प्रणुत सागर जी

 शुद्धात्म तरंगिणी, निजानुभव तरंगिणी,स्वानुभव तरंगिणी,पचंशील सिध्दान्त,आत्मबोध, प्रेक्ष  देशना,पुरुषार्थ देशना, तत्व देशना,अध्यात्म देशना,इष्टोपदेश भाष्य,समाधि शतक,स्वरूप-संबोधन परिशीलन,समय-देशना (समयसार).

परम पूज्य आचार्य श्री विशुद्ध सागर जी महाराज के बचपन से प्रारंभिक क्रियायें उनके भविष्य में वैराग्य की और बढ़ते क़दमों का संकेत दे रही थी।उनका विवरण निम्न प्रकार से है।

बचपन से ही जिनालय जाना:- महाराज श्री अल्पायु से अपने पिता जी श्री रामनारायण जी एवं माता जी श्रीमती रत्ती देवी एवं अपने अग्रजों के साथ प्रतिदिन श्री जिन मंदिर जी दर्शनों के लिये जाने लगे थे।
रात्रि भोजन एवं अभक्ष्य वस्तुओं का त्याग:-लला राजेंद्र (आचार्य श्री का बचपन का नाम)ने ७ वर्ष की अल्पायु में श्री जिनालय में रात्रि भोजन का त्याग एवं अभक्ष्य वस्तुओं के त्याग का नियम ले लिया था और उसका पालन भली प्रकार से किया ।
सप्त व्यसनों का त्याग एवं अष्ट मूल गुणों का पालन:- लला राजेंद्र जब ८ वर्ष के थे तभी से उन्होंने सप्त व्यसन का त्याग एवं अष्ट मूल गुणों का पालन करना प्रारंभ कर दिया था।
बिना देव दर्शन भोजन न करने का नियम:- लला राजेंद्र ने १३ वर्ष की अल्पायु में तीर्थराज श्री दिग. जैन सिद्ध क्षेत्र शिखर जी में बिना देव दर्शन के भोजन न करने का नियम ले लिया था ।
स्वत: ब्रहमचर्य व्रत अंगीकार :- अल्पायु में लला राजेंद्र ने अपने ग्राम रुर के जिनालय में भगवान् के समीप स्वयं ही ब्रहमचर्य व्रत ले लिया था ।

अनेक तीर्थ क्षेत्रों की वंदना करने का सौभाग्य :- राजेंद्र लला ने अपने पिता जी माता जी एवं अनेक परिवार जनों के साथ बचपन से ही शिखर जी,सोनागिरी जी,एवं अनेक तीर्थ क्षेत्रों के दर्शन करने एवं वह विराजमान पूज्य महाराजों के दर्शन करना भी उनके वैराग्य का एक बिंदु है।

परमपूज्य गुरुवर १०८ मुनि श्री विराग सागर जी महाराज के प्रथम दर्शन अपनी बहन के यहाँ नगर भिंड में सन १९८८ में प्रथम बार किये ।उनके प्रवचन और दर्शन से राजेंद्र लला के मन में वैराग्य कके बीज अंकुरित होने लगे।
जैन धर्म की पुस्तकों का अध्ययन ,मनन ,चिंतन :- राजेंद्र भैया बचपन से ही ग्रथों का अध्ययन करके उन पर मनन एवं चिंतन करने लगे थे ,जो उनके वैराग्य की और बढ़ने का एक माध्यम बना।
भिंड में आदरणीय संयमी महानुभावों से भेंट :- जैन मंदिर भिंड में आदरणीय पं. मेरु चन्द्र जी(परमपूज्य मुनिश्री विश्व कीर्ति सागर जी महाराज) वर्तमान में समाधिस्थ एवं बाल ब्र. श्री रतन स्वरूप श्री जैन (वर्तमान में आचार्य श्री विनम्र सागर जी महाराज) से मुलाकात भी भैया राजेंद्र के पथ पर बढ़ने में सहायक हुई।

परम पूज्य गुरुवर श्री का वर्ष १९८८ का भिंड में वर्षा योग :- पूज्य मुनि श्री १०८ विराग सागर जी महाराज का १९८८ में पवन वर्षा योग भिंड नगर में हुआ ।भैया राजेंद्र उस अवधि में अपनी बहन के यहाँ भिंड में रहकर पूज्य गुरुवर के संघ में आते रहते थे।इस से लम्बे समय तक गुरुवर का सानिध्य मिला उनके प्रवचन का भी प्रभाव पड़ा ।जिस से उनका मन विराग सागरजी में चरणों में रम गया और वे संघ में ही रहने लगे और वह से विहार करने पर संघ के साथ विहार भी किया।
ब्रह्मचर्य व्रत अंगीकार करना:- श्री राजेंद्र भैया पूज्य गुरुवर मुनि श्री १०८ विराग सागर जी के साथ विहार करते हुए अतिशय क्षेत्र बारासों पधारे ।यद्यपि राजेंद्र ने रुर नगर में जिनालय के सामने दीपावली के दिन ब्रह्मचर्य व्रत के लिया था फिर भी यहाँ गुरुवर के समीप दिनांक १६ नवम्वर को १७ वर्षकी उम्र में ब्रहमचर्य व्रत पुन: अंगीकार किया।
ब्रह्मचर्य अवस्था में नग्न होकर अभिषेक करना:- १९८८ में एकांत मे ब्रह्मचर्य अवस्था में नग्न होकर भगवान् का अभिषेक किया था जो उनके भविष्य का संकेत दे रहा था।

Check Also

Vihar Update

Place info about guruji vihar. ———————————– Contact No in guruji sangh.